तमिलनाडु में हिन्दू विरोधी कपल ने किया गर्भवती गाय का क्रूर कत्ल

ट्रेंडिंग धर्म प्रमुख खबरें

गर्भवती गाय का कत्ल : कुछ महीने पहले केरल के मलप्पुरम में एक अमानवीय घटना सामने आई थी। जहाँ कुछ लोगों ने एक भूखी गर्भवती हथिनी को पटाखों से भरा अनानास खिला दिया था। जिसके कारण उसकी तड़प-तड़पकर कर मौत हो गई। वहीं तमिलनाडु के उथूकोट्टई में एक ऐसी घटना सामने आई है, जिसे सुनकर आपके रौंगटे खड़े हो जाएंगे।

दरअसल घटना या है कि यहा के एक दंपती ने बीफ के लिए गर्भवती गाय की हत्या कर दी। पुलिस जब तक मौके पर पहुॅंचती वे गो हत्या कर चुके थे। आरोपित का नाम सरला और रघु बताया जा रहा है। तिरुवल्लुवर पुलिस के अनुसार उन्हें साईं विघ्नेश ऑफ़ ऑलमाइटी एनिमल केयर ट्रस्ट से मामले की जानकारी मिली थी। जानकारी मिलते ही एक विशेष टीम को मौके पर भेजा गया, लेकिन उनके पहुॅंचने से पहले दंपती ने गाय की हत्या कर दी गई थी।

दंपती पर भारतीय दंड संहिता की धारा 188, 270, 273 और पशुओं के प्रति क्रूरता का निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। दोनों को जमानत पर बाद में रिहा भी कर दिया गया है ।साईं विघ्नेश ने टाइम ऑफ़ इंडिया को बताया कि हाल ही में लगभग 10 से अधिक गायों को तिरुवल्लुवर शहर में बचाया गया था। उन्होंने कहा, “जानवरों की हत्या को लेकर बकायदा गाइडलाइन है। बूचड़खानों को उन नीति निर्देशों का पालन करना होता है। वे एक खास आयु वर्ग के भैंसे और बैल मार सकते हैं। बीफ के लिए गाय और बछड़ों की हत्या पर पाबंदी है फिर भी लोग ऐसा करते हैं।”

केरल की वामपंथी सरकार ने स्कूलों में पढ़ाने के लिए संस्कृत को छोड़ अरबी भाषा को सिर पर चढ़ाया

तमिलनाडु हो या केरल देश के दक्षिण भाग में ही हिन्दू विरोधी कामों को दिया जाता है अंजाम। हिंदुओं की गाय माता तक को नहीं छोड़ते इन लोग जिसमें हिंदुओं के 33 कोटि देवी देवताओं का वास है। क्या उनके सीने में दिल नहीं है? और ये एक घटना नहीं है इस तरह की हज़ारो घटना वहा घटती है। तब भी वहा की सरकार चुप बैठी रहती हैं। ऐसे लोगों को जेल में डाल कर बाद में रिहा कर देना यह एकमात्र उपचार नहीं है। ऐसे लोगों पर सख्त से सख्त कदम उठने चाहिए। ताकि बाकी लोग ऐसा काम करने से पहले हजार बार सोचे।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *