ISIS का कोरोना जिहाद प्लान भारत के खिलाफ

प्रमुख खबरें विदेश

जहाँ एक तरफ पूरी दुनिया कोरोना महामारी से जूझ रही है। वहीं दूसरी तरफ आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट का ‘ वॉइस ऑफ हिंद’ नामक ऑनलाइन प्रकाशन समूह इसकी आड़ में भारत विरोधी एजेंडे को बढ़ावा देने में कोई चूक नहीं कर रहा है। इस ऑनलाइन समूह ने समर्थकों से कहर है कि वह इस महामारी को अवसर की तरह इस्तेमाल करें। यह समूह कोविड 19 का कैरियर बनकर भारत पर हमला करना चाहते हैं। 

वॉइस ऑफ हिंद (ISIS) के ‘लॉकडाउन स्पेशल’ के इस 17 पन्नो के संस्करण में उनके समर्थकों से इस्लाम धर्म में भरोसा ना रखने वालों को खत्म करने के लिए कहा गया है।

इस संस्करण के मुख्य पन्ने पर दिल्ली के दंगों और निजामुद्दीन मरकज़ में शामिल होने वाले लोगो की तस्वीरें होने के साथ ही लिखा है

“Believers stand tall it’s time for kuffar to fall” मतलब भरोसा करने वाले (इस्लाम में) मजबूती से खड़े रहेंगे और कुफ़्र बीमार हो जाएंगे। इसके बाद भरोसा न रखने वालों को खत्म करने के तरिके बताये गए हैं।

लॉकडाउन स्पेशल में “हमेशा हथियार बंद रहिये और कभी भी ज्यादा से ज्यादा कुफ्रों को जान से मारने का मौका मत छोड़िये। अपने पास चेन, रस्सी और तार रखिये। जिससे उन्हें पीट- पीट कर और तड़पाकर मारा जा सके। ” इसके अलावा पत्रिका में कैंची और हथौड़े जैसे हथियारों से कुफ्रों को मारने का सुझाव दिया है।

इसमें अंत में हैरान कर देने वाली बात लिखी है, ” जितने ज्यादा से ज्यादा कुफ्रों के बीच कोरोना वायरस फैलाया जा सकता है ,फैलाइये। इसमें ज्यादा मेहनत नहीं लगेगी और हम ज्यादा से ज्यादा कुफ्रों को आसानी से मार सकते हैं।” इसमें मौलाना साद और जमात के नाम का ज़िक्र है।

इस्लामिक स्टेट ने भारतीय मुस्लिमों से दिल्ली दंगों के मामले में हुई जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों की गिरफ्तारी का बदला लेने का आग्रह किया था। इसके अलावा पत्रिका में मुस्लिमों को कोरोना कैरियर बनने के लिए कहा गया है। साथ ही जो पुलिस वाले लॉकडाउन के दौरान ड्यूटी पर हैं उनके बीच कोरोना फैलाने के लिए कहा गया है।

मुस्लिम संघी फैज़ खान का अयोध्या भूमि पूजन में जाना अधर्म, अपवित्र होगा स्थल

दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने जनवरी में इस्लामिक स्टेट के तहत काम करने वाले 3 आतंकियों को दिल्ली में गिरफ्तार किया था। भारतीय खुफ़िया एजेंसी पिछले कई दिनों से केरल और कर्नाटक में जाँच अभियान चला रही हैं। उनका मानना है कि आईएस के आतंकी टेलीग्राम और सोशल मीडिया की मदद से काम कर रहे हैं। इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट से भी पता चलता है कि केरल और कर्नाटक में आईएस के काफी आतंकवादी मौजूद हैं।

हाल ही में आतंकवाद पर संयुक्त राष्ट्र (UN) की एक रिपोर्ट में चेताया गया है कि भारतीय राज्य केरल और कर्नाटक में अच्छी-खासी संख्या में खूँखार वैश्विक आतंकी संगठन ISIS के आतंकवादी मौजूद हैं। साथ ही खुलासा किया गया है कि ISIL की भारतीय यूनिट ‘हिन्दू विलायाह’ के भी कम से कम 180 से लेकर 200 तक आतंकी सक्रिय हैं। इस आतंकी संगठन के गठन की घोषणा मई 2019 में हुई थी।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *