सीडीएस जनरल बिपिन रावत

भारत दो मोर्चों पर युद्ध के खतरे का कर रहा है सामना : सीडीएस जनरल बिपिन रावत

ट्रेंडिंग प्रमुख खबरें

चीन के बारे में बात करते हुए, जनरल रावत ने कहा कि चीन के आक्रामक दुस्साहस के बावजूद, भारत ने इन करतूतों  को नियंत्रित करने और रोकने के लिए पर्याप्त उपाय अपनाए हैं। “हम अपनी सीमाओं के पार शांति और सौहार्द चाहते है। काफी देर से, हम चीन द्वारा कुछ आक्रामक कार्रवाई देख रहे हैं, लेकिन हम इन से निपटने में सक्षम है। हमारी त्रिकोणीय रक्षा सेवाएँ हमारे सीमाओं के साथ खतरों से निपटने में सक्षम हैं, ”जनरल रावत ने यूएस-इंडिया स्ट्रेटेजिक पार्टनरशिप फोरम में कहा।

जनरल रावत ने कहा कि भारतीय सशस्त्र बलों को तत्काल संकट से निपटने और भविष्य के लिए समवर्ती रूप से तैयार  रहना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान के कब्जे वाले जम्मू-कश्मीर में चीन के आर्थिक सहयोग के साथ-साथ जारी सैन्य और राजनयिक समर्थन भारत द्वारा उच्च स्तर की तैयारियों को अनिवार्य करता है।

उन्होंने कहा कि भारत ने प्राथमिक मोर्चे से निपटने के लिए एक रणनीति तैयार की है, जिसके आधार पर भारत को कार्य करना है। जनरल रावत ने कहा, “हमने अपनी सीमाओं पर इससे निपटने के लिए एक रणनीति तैयार की है।”

सीडीएस ने पाकिस्तान पर कहा कि वह एक छद्म युद्ध शुरू कर रहा है, प्र, भारतीय जमीन पर आतंकवादियों को इकट्ठा कर रहा है,  उनकी ट्रेनिंग को प्रायोजित कर रहा है और उन्हें हथियारों से लैस कर रहा है। “वे जम्मू और कश्मीर में घुसपैठ करते रहते हैं। वे हमारे देश के अन्य क्षेत्रों में भी आतंकवाद का विस्तार करने की कोशिश कर रहे हैं।”

 पीएम नरेंद्र मोदी की वेबसाइट का ट्विटर अकाउंट हैक, हैकर्स ने करी बिटकॉइंस की मांग


रावत ने कहा कि भारत सरकार भी सशस्त्र बलों के बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। सीडीएस ने कहा, “हम इस क्षेत्र के अधिकांश देशों के साथ द्विपक्षीय अभ्यास में संलग्न हैं। इसमें चीन भी शामिल है।
भारत ने चीन के साथ सैन्य अभ्यास के लिए रूस में हो रहे जॉइंट ट्रेनिंग से सेना को अलग करकिया है और अब हम भविष्य के बारे में नहीं जानते हैं।”

भारत और चीन वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चार महीने तक गतिरोध में लगे रहे हैं। कई स्तरों के संवाद के बावजूद कोई सफलता नहीं मिली है और गतिरोध जारी है। ऐसे में सीडीएस जनरल रावत ने ड्रैगन चीन को दो-टूक में बता दिया है कि वह अपनी हरकतों से बाज आ जाए नहीं तो शेर भारत उसे मुँहतोड़ जवाब दना जानता है। 

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *