पैगम्बर मोहम्मद का कार्टून दिखा गला कटवाने वाले टीचर सैमुअल पैटी को मिलेगा फ्रांस का सर्वोच्च सम्मान

धर्म प्रमुख खबरें वीडियो

सैमुअल पैटी नाम के 47 वर्षीय इतिहास के शिक्षक को पेरिस में कट्टरपंथी इस्लामवादी द्वारा अपमानित तरीके से गला काट के मार देनी की घटना से दुनिया को इस्लाम की असहनशीलता से परिचय हो चुका है। इस शर्मनाक काण्ड के कुछ दिनों बाद, फ्रांस सरकार ने मरणोपरांत डी’होनूर सर्वोच्च सम्मान से सैमुअल पैटी को सम्मानित करने का फैसला किया है।

पैटी की हत्या 16 अक्टूबर को 18 साल के कट्टरपंथी इस्लामवादी अब्दुल्लाख अबूयज़िदोविच ए नाम के शख्स द्वारा पेरिस उपनगर में की गई थी। सैमुअल पैटी ने पैगंबर मोहम्मद के कार्टून पेरिस उपनगर में मौजूद कॉलेज डु बोइस डी’ऑलने में अपने छात्रों को दिखाई थी। फ्रांसीसी पुलिस द्वारा गोली मारे जाने से पहले आतंकवादी ने ट्विटर पर भी गो हत्याकांड के चित्रों को अपलोड किया था।

मंगलवार सुबह, फ्रांसीसी शिक्षा मंत्री जीन-मिशेल ब्लेंक ने बीएफएम टीवी के साथ एक साक्षात्कार के दौरान घोषणा की कि मृत शिक्षक को सर्वोच्च सम्मान के साथ सम्मानित किया जाएगा। वहीं, पेरिस के सोरबोन विश्वविद्यालय में सैमुअल पैटी के सम्मान में बुधवार को एक राष्ट्रीय समारोह आयोजित किया जाएगा।

सैमुअल पैटी का गला कटवाने के लिए मस्जिद से रची गई थी साज़िश, अब पड़ेगा ताला

फ्रांस ने साज़िश रचने में इस्तेमाल मस्जिद पर ताला जड़ दिया है जिसमें सैमुअल पैटी के खिलाफ मुसलमानों को उकसाया गया था। यह पहले बताया गया था कि एक स्थानीय मस्जिद (ला ग्रांडे मोस्क्वे दे पंतिन) एक शातिर ऑनलाइन अभियान का एक हिस्सा था, जिसमें सैमुअल पैटी को नौकरी से निकालने के लिए मांग उठाई गई थी। हालाँकि मस्जिद ने मृत शिक्षक का व्यक्तिगत विवरण नहीं दिया था, लेकिन यह कथित रूप से साज़िश के तहत चले अभियान का एक हिस्सा था जो अंततः इस भीषण अपराध को अंजाम देने में ज़िम्मेदार साबित हुआ।

मस्जिद ने अपने 1500 उपासकों से एक 13 वर्षीय मुस्लिम लड़की के पिता के वीडियो को साझा करने का आग्रह किया था, जिसमें उन्होंने सैमुअल पैटी के खिलाफ कार्रवाई का आह्वान किया था। बर्बर कार्रवाई के बाद, मस्जिद ने वीडियो हटा दिया किया और इसे साझा करने के लिए ‘खेद’ व्यक्त किया। हालांकि, फ्रांसीसी सरकार उन्हें बचने देने के मूड में नहीं है।

ISIS की टेरर मैगजीन का हुआ भंडाफोड़, बाबरी का बदला लेने के लिए मुसलमानों को भड़काया

मंगलवार को सरकार ने घोषणा की कि बुधवार रात से शुरू होने वाली रात को मस्जिद को 6 महीने के लिए बंद कर दिया जाएगा। इससे पहले, आंतरिक मामले के मंत्री गेराल्ड डर्मैनिन ने मस्जिद को बंद करने का निर्देश दिया था और चेतावनी दी थी, “गणतंत्र के दुश्मनों के लिए एक मिनट की राहत नहीं …”

7 अक्टूबर को, एक व्यक्ति ब्राहिम चनीना ने एक फेसबुक पोस्ट अपलोड किया था जिसमें उन्होंने दावा किया था कि उनकी बेटी और अन्य मुस्लिम छात्रों को उनके इतिहास के शिक्षक द्वारा हाथ उठाने के लिए कहा गया था। उनकी बेटी 4 वीं कक्षा में पढ़ती है और 13 साल की है।

उस आदमी ने आगे दावा किया कि उक्त शिक्षक ने मुसलमानों को क्लास से बाहर निकलने के लिए कहा क्योंकि वह कुछ ऐसा दिखाने वाला था जो सभी को हैरान कर देगा। ‘ जबकि कुछ मुस्लिम छात्रों ने अनुरोध का अनुपालन किया, आदमी की बेटी ने ऐसा करने से इनकार कर दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि इतिहास के शिक्षक ने तब नग्न व्यक्ति की छवि दिखाई और दावा किया कि यह पैगंबर मोहम्मद का चित्र था।

उत्तेजित ब्राहिम ने पैटी के कृत को ‘अपमान’ कहा और सूचित किया कि वह इस मामले को प्रशासन के साथ उठाएगा। उन्होंने उक्त शिक्षक की सेवा समाप्त करने की मांग करते हुए अन्य लोगों से भी स्कूल के प्राचार्य को ईमेल भेजने का आग्रह किया।

हालांकि उन्होंने पोस्ट में सैमुअल पैटी का नाम नहीं लिया था, लेकिन चौथी कक्षा में पढ़ाने वाले इतिहास के शिक्षक को बर्खास्त करने के लिए ऑनलाइन अभियान उत्तेजित मुसलमानों की पहचान करने में मदद करने के लिए पर्याप्त था।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बाद में ब्राहिम चनीना ने एक अन्य फेसबुक पोस्ट में शिक्षक का नाम हटा दिया। हालाँकि, ऐसा करने से पहले ही, सैमुअल पैटी की निजी जानकारी इंटरनेट पर आ गई। यह उन स्क्रीनशॉट से स्पष्ट होता है जो सोशल मीडिया पर प्रसारित होने लगे।

अब फ्रांस में 231 से अधिक धार्मिक कट्टरपंथियों को देश से बाहर करने की तैयारी हो चुकी है और एमओएल मैक्रॉन की सरकार वास्तव में इस्लाम पर लगाम लगाने के लिए कानून लाने जा रही है ताकि चार्ली हेब्दो और सैमुएल पैटी हत्याकांड जैसी घटनाएं दोबारा घटित न हो। यूरोप में जिस तरह से इस्लाम की काली परछाई अपने पैर जमा रही है उससे बहुत जल्द ही यहाँ भी मिडिल ईस्ट वाले हालत बनते दिख जाए तो कोई शक नहीं हो सकता है।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *