एकनाथ शिंदे

शिवसेना के विधायकों को तोड़ने वाले एकनाथ शिंदे

प्रमोद शुक्ल संविधान में पहले यह व्यवस्था थी कि वैचारिक दूरी बढ़ने पर किसी भी सदन में किसी भी पार्टी के एक तिहाई विधायक या सांसद यदि अलग गुट बनाना चाहें तो वह बना सकते थे। बाद में इस कानून को बदल दिया गया। एक तिहाई की जगह यह संख्या अब दो तिहाई होनी चाहिए, […]

Continue Reading
लेफ्ट-लिबरल ईकोसिस्टम

मोदी सरकार के खिलाफ लेफ्ट-लिबरल ईकोसिस्टम की सुनियोजित साजिश

रोहन शर्मा दशकों में देशी-विदेशी फंड और विलासिताओं से सींचकर तैयार हुआ लेफ्ट-लिबरल ईकोसिस्टम सुनियोजित योजनाबद्ध तरीके से मोदी सरकार के प्रत्येक कदम के विरोध में उग्र हिंसक प्रतिक्रिया देकर सरकार और आम जनमानस के अंदर भय व असुरक्षा का संचार करने में जुटा हुआ है। उनके हाथों की कठपुतलियां और मुफ्त के टट्टू है […]

Continue Reading
अग्निपथ योजना

आज की हकीकत और अग्निपथ योजना

डॉ प्रदीप भटनागर जो यह कह रहे हैं कि अग्निपथ योजना युवाओं का भविष्य अनिश्चित करके उनका जीवन नष्ट कर देगी, वे क्या यह बता सकते हैं कि आज 17 से 23 साल के किस युवा को रोजगार मिल जाता है, जो 23 साल की उमर में 12 लाख पाने के बाद जीवन नष्ट कर […]

Continue Reading
सरकारी नौकरी

सरकारी नौकरी की जिद

प. कल्लूराम मार्क्सवादी हां भाय। सरकारी नौकरी की जिद में वर्षों तक मां बाप की छाती पर मूंग दलना ही तो संघर्ष होता है। सही जगह महनत को चैनलाइज कर के, मार्केट में किस स्किल की आवश्यकता है उसका अध्ययन कर के उस स्किल सेट को सीख कर फिर मैदान में उतर कर सरवाइव करने […]

Continue Reading
अग्निपथ स्कीम

अग्निपथ स्कीम और फौज में जाने वाले ‘इच्छुकों’ की मानसिकता

नितिन त्रिपाठी भारतीय सेना की एक विंग है टेरिटोरियल आर्मी। यदि आपका सपना भारतीय सेना join करने का रहा हो, आप चूँक गए हों, अब व्यवसाय / कार्यरत हों तो भी 18-42 वर्ष की आयु के बीच TA join कर सकते हैं। ट्रेनिंग होगी, इसके पश्चात जब ज़रूरत होगी तब आपको बुलाया जाएगा. साल में […]

Continue Reading
राहुल गांधी ईडी

राहुल गांधी से ईडी की पूछताछ, लेकिन बात बस इतनी सी ….

सतीश चंद्र मिश्र 5 लाख रुपए की कंपनी बनाकर 90 करोड़ की रकम और 5 हजार करोड़ की संपत्ति हड़प लेने की हेराफेरी जालसाजी करने के बहुत गंभीर और शर्मनाक आरोपों के बहुत ठोस सबूतों से घिरे राहुल गांधी से आज ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) पूछताछ करने वाला है। लेकिन अपने चमचों और गुर्गों की भारी […]

Continue Reading
फौज

कोई फौज में क्यों जाता है?

राजीव मिश्र  1997 में हमारी बैच के लगभग 120 डॉक्टरों में तीन लोग शॉर्ट सर्विस कमीशन पर फौज में गए। एक अभी कर्नल है, एक कैप्टन अजय सिंह राष्ट्रीय राइफल्स के साथ सेवा में मणिपुर में वीरगति को प्राप्त हुए, और मैं सात साल पूरा करके वापस आ गया। हम सबमें सबसे मोटिवेटेड और सेना […]

Continue Reading
डॉ बाल कृष्ण पाण्डेय

विशेष- अंतराष्ट्रीय संगोष्टी को संबोधित करेंगे डॉ बाल कृष्ण पाण्डेय

75 वें ‘आज़ादी का अमृत महोत्सव’ के उपलक्ष्य में विश्व हिंदी संस्थान, कनाडा एवं कला एवं वाण्जिय महाविद्यालय अक्कलकुवा, महाराष्ट्र द्वारा दो दिवसीय अंतराष्ट्रीय संगोष्ठी 18 व 19 जून 2022 को राजस्थान के ऐतिहासिक स्थल कुम्भलगढ़ में आयोजित है। जिसको बतौर अतिथि वक्त डॉ बाल कृष्ण पाण्डेय, अधिवक्ता, इलाहबाद हाई कोर्ट, महासचिव राजस्व परिषद बार […]

Continue Reading

हिंदू सड़क पर क्यों नहीं उतरता है ?

पंडित कल्लूराम मार्क्सवादी थक गया हूं भाई सुन सुन के कि हिंदू सड़क पर क्यों  नहीं उतरता है। हिंदू कायर है, हिंदू अदरक है हिंदू लहसुन है। अरे भाई हिंदुओं के “street might” नहीं है इसीलिए मोतीजी को वोट दिया ना! यह कौन सी बात हुई की “अब मोदी जी लाठी चलाएं क्या?” अरे भाई […]

Continue Reading
भारत का इतिहास

अब अनपढ़ गुंडे भारत का इतिहास लिखेंगे ?

देवेन्द्र सिकरवार भारत का इतिहास : सुना है कि करणी सेना ने दवाब डालकर चंद्रप्रकाश द्विवेदीजी को मूवी का नाम बदलने को विवश कर दिया है। अब नाम होगा, “सम्राट” पृथ्वीराज चौहान। बस अब यही बाकी रह गया है। अब अनपढ़ गुंडे इतिहास लिखेंगे क्योंकि भई लोकतंत्र है ! -कोई मिहिरभोज व पृथ्वीराज को गुर्जर […]

Continue Reading