सेक्स करने का अधिकार

खुले में सेक्स करने का अधिकार सिर्फ श्वान प्रजाति को

ज़ोया मंसूरी सेक्स करने का अधिकार : बहुत साल पहले की बात है, केंद्र में कॉंग्रेस की सरकार थी। मौनी बाबा प्रधानमंत्री थे और हमारे कानपुर के श्री प्रकाश जायसवाल जी कोयला मंत्री। उस समय कानपुर के कॉन्ग्रेस अध्यक्ष एक बाजपेई जी थे। घर पर उनके कोचिंग चलती थी। एक बार शाम हमारा एक दोस्त […]

Continue Reading
सरकारी नौकरी

सरकारी नौकरी की जिद

प. कल्लूराम मार्क्सवादी हां भाय। सरकारी नौकरी की जिद में वर्षों तक मां बाप की छाती पर मूंग दलना ही तो संघर्ष होता है। सही जगह महनत को चैनलाइज कर के, मार्केट में किस स्किल की आवश्यकता है उसका अध्ययन कर के उस स्किल सेट को सीख कर फिर मैदान में उतर कर सरवाइव करने […]

Continue Reading
फौज

कोई फौज में क्यों जाता है?

राजीव मिश्र  1997 में हमारी बैच के लगभग 120 डॉक्टरों में तीन लोग शॉर्ट सर्विस कमीशन पर फौज में गए। एक अभी कर्नल है, एक कैप्टन अजय सिंह राष्ट्रीय राइफल्स के साथ सेवा में मणिपुर में वीरगति को प्राप्त हुए, और मैं सात साल पूरा करके वापस आ गया। हम सबमें सबसे मोटिवेटेड और सेना […]

Continue Reading
केदारनाथ धाम

पवित्र केदारनाथ धाम में ‘अपवित्र’ नारीवादी घिनौना कृत्य

पवन सक्सेना बाबा के धाम केदारनाथ धाम से आधा किलोमीटर की परिधि में मोबाइल प्रयोग पर रु 1000/- का अर्थदंड लगाया जाए। इस लड़की का मीडिया पर छा जाने का उद्देश्य पूरा हो गया। कुछ लोग लड़की द्वारा जूते पहनकर इस पवित्रतम तीर्थ पर नाचने की वीडियो की प्रशंसा कर रहे हैं। हम जैसों को […]

Continue Reading
यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्र

युद्ध की आड़ में यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को बनाया गया बंदी

देवेन्द्र सिकरवार यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्र : एक नया पहलू ! यूक्रेन में फंसे एक छात्र के वीडिओ के मुताबिक यूक्रेन के विश्वविद्यालयों ने सरकार के इशारे पर भारत सहित कई देशों के छात्रों को जानबूझकर रुकने पर मजबूर किया ताकि विदेशी छात्रों विशेषतः भारतीय व अरब छात्रों को ‘शील्ड’ की तरह प्रयोग किया […]

Continue Reading
पूजा यादव

कुशीनगर हादसे में लोगों की जान बचा वीरगति पाने वाली बेटी पूजा यादव जिसे सेक्युलर मीडिया भूल गई

दीपक एस  यादव नाम :- पूजा यादव…. काम:- पांच लोगों की जान बचाई पर छठे व्यक्ति की  जान बचाते वक्त खुद जान गंवा दी।कुशीनगर में कल शादी समारोह में लोगों की भीड़ एक ढके हुए कुंए का स्लैब टूट जाने पर उस पर बैठी कई महिलाएं और बच्चे उस में गिर गये। रात के अंधेरे […]

Continue Reading
कॉमन ड्रेस कोड

समानता बचाए रखने के लिए कॉमन ड्रेस कोड हो लागू

प्रमोद शुक्ल समानता और लोकतांत्रिक मूल्यों को बचाए रखने के लिए कॉमन ड्रेस कोड बहुत जरूरी है। कॉमन ड्रेस कोड ही एक मात्र तरीका है, जिससे जातिवाद, साम्प्रदायिकता और अलगाववाद से निपटा जा सकता है। इस मामले की जल्द सुनवाई की माँग करते हुए शीर्ष अदालत से केंद्र सरकार को इस मुद्दे के समाधान के […]

Continue Reading
उडुपी

मैं उडुपी की मुस्लिम बिटिया मुस्कान का समर्थन करूँगा पर …….

सतीश चंद्र मिश्र सैकड़ों साल पुरानी मज़हबी परम्पराओं का ही पालन करना क्योंकि जरूरी है, इसीलिए उडुपी वाली बिटिया ने रायता फैला दिया है वो कॉलेज की ड्रेस के बजाए हिज़ाब पहनेगी। मैं उस उडुपी वाली बिटिया द्वारा फैलाए गए रायते का पूरा समर्थन करता हूं। लेकिन मेरे समर्थन की शर्त केवल एक है, यही […]

Continue Reading
काम करने का अधिकार

भारत में 18 वर्ष के नीचे वाले युवकों को काम करने का अधिकार मिले

चन्दर मोहन अग्रवाल काम करने का अधिकार  : अभी अभी रेड लाइट पर एक बच्चे को गाड़ी का शीशा खड़खडा कर भीख मांगते हुए देखा। आज आफिस जाने की जल्दी भी न थी और रेड लाइट भी लम्बी चलने वाली थी तो शीशा नीचे करके पूछ लिया कि बच्चे भीख क्यों मांग रहे हो। वह […]

Continue Reading
मॉडर्निटी और ट्रेडिशन

‘मॉडर्निटी’ और ‘ट्रेडिशन’ साथ नहीं चल सकते ?

मॉडर्निटी और ट्रेडिशन : ‘सर आइज़क न्यूटन’ ने करीब 1687 के आसपास ‘न्यूटोनियन मैकेनिक्स’ के इक्वेशन पर काम किया था। अगले दो सौ सालों तक वैज्ञानिकों ने एक के बाद एक प्रमाण दिए जो ‘न्यूटन’ के इस थ्योरी को सही ठहराते आए। मतलब प्रमाणों का ऐसा अंबार लग गया कि उनकी थ्योरी को ग़लत ठहराना […]

Continue Reading