शिवसेना के विधायकों को तोड़ने वाले एकनाथ शिंदे

प्रमोद शुक्ल संविधान में पहले यह व्यवस्था थी कि वैचारिक दूरी बढ़ने पर किसी भी सदन में किसी भी पार्टी के एक तिहाई विधायक या सांसद यदि अलग गुट बनाना चाहें तो वह बना सकते थे। बाद में इस कानून को बदल दिया गया। एक तिहाई की जगह यह संख्या अब दो तिहाई होनी चाहिए, … Continue reading शिवसेना के विधायकों को तोड़ने वाले एकनाथ शिंदे