सलमान खुर्शीद घर

सलमान खुर्शीद के घर पर हमला हुआ ….अच्छी बात है ! कहीं ये कोंग्रेसियों द्वारा किया हमला तो नहीं ?

ट्रेंडिंग प्रमुख विषय राजनीति

सलमान खुर्शीद की किताब सनराइज ओवर अयोध्या को लेकर सियासी पारा चरम पर है इस सियासी पारे से आग इतनी बढ़ चुकी है कि वह सीधे उत्तराखंड राज्य के नैनीताल में सलमान खुर्शीद के घर पर तक जा पहुँची।

उनके घर मैं आग लग गई और खुर्शीद साहब के अनुसार तथाकथित हिंदू उग्रवादियों ने उनके घर को आग लगाई है लेकिन एक सच्ची कहावत कही गयी है कि जिस आदमी का घर खुद शीशे का होता है वह दूसरों के घरों पर पत्थर नहीं मारते हैं।

पूरे घटनाक्रम के तथ्यों से समझने की कोशिश करते हैं कि आखिर सलमान खुर्शीद के घर पर हमला जो हुआ वह वाकई में असली था या प्रायोजित था। पहली बात तो यह कि सलमान खुर्शीद को यह बात समझ में आनी चाहिए कि देश की जनता समझदार है, वह नई दिल्ली के फ्रेंड्स कॉलोनी में रहते हैं, ऐसे में उनके नैनीताल वाले घर पर हमला  होने का कोई तुक समझ में नहीं आता।

दूसरी बात बेशक सभ्य समाज में किसी के घर पर हमला होने की घटना को जायज नहीं ठहराया जा सकता किंतु क्रिमिनल साइकोलॉजी यह कहती है कि जो भी अपने दुश्मन को मारना चाहता है या फिर कोई किसी को नुकसान पहुंचाना चाहता है तो वह उसके प्रत्यक्ष पर हमला करेगा वह भी तब जब वहां पर वह लक्षित व्यक्ति निवास करता हो। नैनीताल के उनके घर पर जब हमला हुआ तो घर में कोई भी मौजूद नहीं था ऐसे में भीड़ को उनके घर में आग लगाकर क्या हासिल हुआ होगा ? यदि खुर्शीद को डराना ही होता तो उनके दिल्ली निवास पर हमला किया जाता या फिर दिल्ली में जब वह किसी कार्यक्रम में जा रहे हो या सार्वजनिक स्थान पर हो तो उन पर हमला किया जाता जैसे स्याही गिराना, मारपीट करना आदि।

तीसरी बात फिलहाल ठंडी का मौसम है ऐसे में सलमान खुर्शीद नैनीताल वाले घर पर क्यों होंगे? वह मूलतः उत्तर प्रदेश के फैजाबाद के निवासी हैं। चौथी बात इस घटनाक्रम के बाद वह जिस तरीके से मीडिया के सामने आकर बड़ी बेबाकी से, बिना किसी चिंता के, बिना किसी हिचकिचाहट के बयान दे रहे हैं और यहां तक कि उन्होंने जी न्यूज़ को एक विवादित इंटरव्यू भी दिया जिसमें उनकी शैली खोखली नजर आई, जब एंकर अदिति त्यागी ने उनकी किताब से जुड़े हिंदुत्व पर किये कोरे बकवास और घृणा सामग्री पर सवाल दागे तो वह भाग खड़े हुए।


चीफ जस्टिस ऑफिस की निष्पक्षता पर प्रश्न चिन्ह


कंगना रनौत के “आज़ादी” वाले बयान पर नासमझी के चलते रार


पांचवी बात यह कि इस पूरे घटनाक्रम में किस तरीके से सलमान खुर्शीद का गैर गंभीर रवैया नजर आ रहा है उससे साफ तौर पर कहा जा सकता है कि यह अंदर खाने पकी खिचड़ी का ही असर है जिसके तहत कांग्रेसियों ने उनके नैनीताल निवास पर हमला किया हो और आगामी उत्तराखंड विधानसभा चुनाव को मद्देनजर देखते हुए वहां ध्रुवीकरण का माहौल बनाया जा सके।

फिलहाल पुलिस हमलावरों की खोज कर रही है लेकिन ऐसे अपने घर पर हुई आगजनी के बाद सलमान खुर्शीद की मंद-मंद मुस्कान और उनका गैर-गंभीर रवैया साफ तौर पर दिखाता है कि इसके पीछे कांग्रेस पार्टी का अंदरूनी षड्यंत्र है जिसमें वह अपने पार्टी के एक विवादित चेहरे और मुस्लिम परस्त

नेता को आगे करते हुए बीजेपी के खिलाफ ध्रुवीकरण करके माहौल बनाने की नापाक कोशिश कर रही है। सलमान खुर्शीद तो बस एक मोहरा है ! इसके पीछे तो कांग्रेस पार्टी काअसली मालिकाना हक रखने वाले गांधी परिवार का ही हाथ नजर आता है जिसके एक इशारे पर पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से पहले ही ध्रुवीकरण करने का माहौल और हिंदुत्व को बदनाम करने के लिए सलमान खुर्शीद, दिग्विजय सिंह और पी चिदंबरम जैसे नेताओं को आगे कर दिया जाता है।

पता नहीं सोनिया गांधी और राहुल गांधी इन सब से क्या हासिल करना चाहते हैं ? पर उन्हें 2014 में आई एंटनी कमेटी की रिपोर्ट को एक बार फिर से पढ़ लेना चाहिए, ऐसे हिंदू विरोधी हत्कण्डों से कांग्रेस पार्टी का बेड़ा गर्क ही होना है ना कि बेड़ा पार।

वैसे सलमान खुर्शीद के घर पर हमला हुआ तो अच्छी बात है!  खुर्शीद साहब आपको यह बात समझ में आ जानी चाहिए कि हिंदुत्व और हिन्दुओं के खिलाफ जहर घोल के आप बहुत दिन तक चैन की सांस नहीं ले सकते।

कहीं ऐसा ना हो कि आपको धरती के कोने छुपने के लिए कम पड़ जाए और 2002 गुजरात दंगों के एहसान जाफरी की तरह ही आपका भी कहीं “गुलबर्ग कांड” हिंदुओं द्वारा ना हो जाए ! जरा संभल के रहिए सलमान खुर्शीद साहब।

Sharing is caring!

2 thoughts on “सलमान खुर्शीद के घर पर हमला हुआ ….अच्छी बात है ! कहीं ये कोंग्रेसियों द्वारा किया हमला तो नहीं ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *