कोविड-19 वैक्सीन ना लगवा कर नोवाक जोकोविच बने फर्जी टेनिस स्टार

खेल ट्रेंडिंग प्रमुख विषय

विश्व भर के युवाओं के लिए क्रिकेट स्टार, फुटबॉल स्टार, टेनिस स्टार, मूवी स्टार जैसे व्यक्ति बहुत बड़ा रोल मॉडल हुआ करते हैं। युवा ऐसे लोगों को अंधाधुंध फॉलो करते हैं और सोशल मीडिया पर उनके लिए लड़ते हुए भी दिखाई पड़ते हैं। मगर ऐसे सुपर स्टारों की वास्तविकता कुछ और ही होती है। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण हमें सर्बिया के टेनिस स्टार नोवाक जोकोविच के रूप में देखने को मिला, जिन्होंने खुद कोविड-19 की वैक्सीन नहीं लगवाई। जिसके कारण ऑस्ट्रेलिया में होने वाले ऑस्ट्रेलियन ओपन में उन्हें शामिल होने से रोक दिया गया और वापस उनके देश सर्बया भेज दिया गया।

नोवाक जोकोविच बने फर्जी टेनिस स्टार

आपको भले ही विश्व की कोरोना महामारी याद ना हो परंतु आपने भारत में कोरोना की दूसरी दहर तो देखी ही होगी जब आपके आसपास रोजाना किसी न किसी के मरने की खबरें आती रहती थी। इसी तरह विश्व के भी हालात थे। सरकारों ने बड़ी मशक्कत करके लोगों को वैक्सीन लगवाई और अपने यहां नए नए नियम कानून बनाए।

ऑस्ट्रेलिया में होने वाले ऑस्ट्रेलियन ओपन में शामिल होने के लिए वैक्सीन सर्टिफिकेट का होना अति आवश्यक था परंतु इतने समय बीत जाने के बावजूद नोवाक जोकोविच ने वैक्सीन नहीं लगवाई और वह इस बात पर भी अड़े थे कि वह बिना वैक्सीन लगवाए ही ऑस्ट्रेलियन ओपन में खेलेंगे।

ऑस्ट्रेलिया पहुंचने पर ऑस्ट्रेलिया की सरकार ने उन्हें वीजा देने से ही मना कर दिया और उन्हें कुछ दिनों में प्लेन से बैठा कर वापस उनके देश सर्बिया भेज दिया।


अमित के साथ मुद्दे की बात – भाग 2

अमित के साथ मुद्दे की बात – भाग 2


क्या नोवाक जोकोविच जैसे लोग रोल मॉडल हो सकते हैं?

नोवाक जोकोविच को पूरी दुनिया से लाखों-करोड़ों लोग फॉलो करते हैं। महामारी के समय ऐसे टेनिस स्टार का वैक्सीन ना लगवाने की बात पर अड़े रहना, यह दर्शाता है कि नोवाक भले ही टेनिस के स्टार हो मगर वह असल जिंदगी में बहुत ही घटिया किस्म के इंसान हैं। 20 ग्रैंडस्लैम जीतने वाला टेनिस स्टार अगर असल जिंदगी में इस तरह की हरकतें करेगा तो इससे उसे फॉलो करने वालों में क्या संदेश जाएगा!

खबरों से यह भी पता चला है कि नोवाक जोकोविच की एक बहुत बड़ी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी में भागीदारी भी है जिसका क्लीनिकल ट्रायल ब्रिटेन में चल रहा है। ऐसे बड़े बड़े लोग पैसे कमाने के लिए उसी वैक्सीन को बेचते हैं और खुद वैक्सीन लगवाने से दूर भागते हैं। जब पूरी दुनिया महामारी से जूझ रही हो और वैक्सीन ही उसका एकमात्र उपाय समझ में आ रहा हो, ऐसे में जोकोविच जैसे दुनिया भर में जाने जाने वाले खिलाड़ी का एक वैक्सीन विरोधी मानसिकता से ग्रसित होना, उनका अनुसरण करने वालों के लिए काफी खतरनाक हो सकता है।

Sharing is caring!

Leave a Reply

Your email address will not be published.