मोहनदास करमचंद गांधी

मोहनदास करमचंद गांधी की कथित सेक्स लाइफ़

गौरी शर्मा मोहनदास करमचंद गांधी की कथित सेक्स लाइफ़ पर एक बार फिर से बहस छिड़ गई है। लंदन के प्रतिष्ठित अख़बार “द टाइम्स” के मुताबिक गांधी को कभी भगवान की तरह पूजने वाली 82 वर्षीया गांधीवादी इतिहासकार कुसुम वदगामा ने कहा है कि गांधी को सेक्स की बुरी लत थी, वह आश्रम की कई […]

Continue Reading
सेक्स करने का अधिकार

खुले में सेक्स करने का अधिकार सिर्फ श्वान प्रजाति को

ज़ोया मंसूरी सेक्स करने का अधिकार : बहुत साल पहले की बात है, केंद्र में कॉंग्रेस की सरकार थी। मौनी बाबा प्रधानमंत्री थे और हमारे कानपुर के श्री प्रकाश जायसवाल जी कोयला मंत्री। उस समय कानपुर के कॉन्ग्रेस अध्यक्ष एक बाजपेई जी थे। घर पर उनके कोचिंग चलती थी। एक बार शाम हमारा एक दोस्त […]

Continue Reading
जयनारायण शर्मा

मध्य प्रदेश के जयनारायण शर्मा उर्फ बापजी का किस्सा

अजय रचनेकर मध्यप्रदेश में आगर मालवा नाम का एक जिला है। वहाँ के न्यायालय में सन 1932 ई. में जयनारायण शर्मा नाम के वकील थे। उन्हें लोग आदर से बापजी कहते थे। वकील साहब बड़े ही धार्मिक स्वभाव के थे और रोज प्रातःकाल उठकर स्नान करने के बाद स्थानीय बैजनाथमन्दिर में जाकर बड़ी देर तक […]

Continue Reading
अग्निपथ योजना

आज की हकीकत और अग्निपथ योजना

डॉ प्रदीप भटनागर जो यह कह रहे हैं कि अग्निपथ योजना युवाओं का भविष्य अनिश्चित करके उनका जीवन नष्ट कर देगी, वे क्या यह बता सकते हैं कि आज 17 से 23 साल के किस युवा को रोजगार मिल जाता है, जो 23 साल की उमर में 12 लाख पाने के बाद जीवन नष्ट कर […]

Continue Reading
अग्निपथ स्कीम

अग्निपथ स्कीम और फौज में जाने वाले ‘इच्छुकों’ की मानसिकता

नितिन त्रिपाठी भारतीय सेना की एक विंग है टेरिटोरियल आर्मी। यदि आपका सपना भारतीय सेना join करने का रहा हो, आप चूँक गए हों, अब व्यवसाय / कार्यरत हों तो भी 18-42 वर्ष की आयु के बीच TA join कर सकते हैं। ट्रेनिंग होगी, इसके पश्चात जब ज़रूरत होगी तब आपको बुलाया जाएगा. साल में […]

Continue Reading
रेत समाधि

रेत समाधि को इंटरनेशनल बुकर प्राइज़ मिला….. पर खुश होने की बात नहीं !

अवनीश कुमार सिंह रेत समाधि को इंटरनेशनल बुकर प्राइज़ मिला है और अपने लोग देश में एक पुरस्कार आते देख खुश हैं तो सही वाली हिन्दी के बैनर तले आप सबको जागरूक करना मेरा कर्त्तव्य है। रेत समाधि पुस्तक का प्लॉट- भारत विभाजन से पहले हिन्दू लड़की चंदा मोमिन अनवर से ब्याह करती है। अनवर […]

Continue Reading
वीर सावरकर माफीनामा

वीर सावरकर का माफीनामा क्या कायरता थी ?

एस. ओम प्रकाश वीर सावरकर का माफीनामा : स्वातन्त्र्यवीर सावरकर जी पर रोज-रोज वे लोग कीचड़ उछालते रहते हैं जिनके आदर्श पुरुषों ने कभी एक थप्पड़ तक नहीं खाया, जो भारत में विदेशी कपड़ों की होली जलाते थे पर खुद अपने कपड़े पेरिस से धुलवाकर मंगाते थे, जिन्हें कभी कालापानी की सजा नहीं हुई बल्कि […]

Continue Reading
मानव जाति संस्थाएं

मानव जाति पर बोझ कुछ संस्थाएं अब समाप्त कर देनी चाहिए

कौशल सिखौला कुछ संस्थाएं ऐसी हैं जिन्हें अब समाप्त कर देना चाहिए ! मानव जाति के सरंक्षण और जीवन बनाए रखने की प्रतिबद्धता से इन बड़े बड़े संस्थानों का कोई मतलब नहीं रहा ! ये सभी सफेद हाथी साबित हुए हैं, जिन्होंने मनुष्यता का कभी कोई भला नहीं किया ! बहुत सी संस्थाओं के गठन […]

Continue Reading
वामपंथ वायरस

वामपंथ के वायरस के विरुद्ध वैचारिक लड़ाई

आनंद कुमार वामपंथ के वायरस : महाभारत में गुरु द्रोण शिष्यों से पूछते है, तुम्हे तोते में क्या दिखाई दे रहा है। किसी को तोते की पूंछ दिखाई देती है, किसी को गर्दन, किसी को पेड़ के पत्ते तो किसी को कुछ. किन्तु तोते की आँख किसी को दिखाई नही देती। अर्जुन को केवल तोते […]

Continue Reading
जवाहरलाल नेहरू रोना

जवाहरलाल नेहरू कभी भी किसी के सामने नहीं रोते तो क्या कोई और नहीं रो सकता ?

दयानंद पांडेय एक बहुत प्रसिद्ध जुमला है, जवाहरलाल नेहरू कभी भी किसी के सामने नहीं रोते। हुआ यह था कि जवाहरलाल नेहरू के चचेरे भाई बी के नेहरू ने एक अंगरेज औरत फोरी से किया था। 1935 में वो बी के नेहरू से शादी करने भारत आईं तो उन्हें जवाहरलाल नेहरू से मिलने के लिए […]

Continue Reading