रूस

रूस के खिलाफ न होने से सख्ते में आए भारत विरोधी सुपर पॉवर देश

उमा शंकर सिंह रूस यूक्रेन युद्ध में रूस की निंदा न करने और रूस से कच्चा तेल व कोयला खरीदते रहने के कारण अमेरिका, ब्रिटेन और योरोपियन देश भारत से झुंझलाए हुए हैं। भारत पर दबाव बनाने के लिए अमेरिका और यूरोपियन यूनियन खास तौर से जर्मनी फिर उसी पुरानी तिकड़म की कूटनीति पर आ […]

Continue Reading
बाइडेन

जिनपिंग, पुतिन, बाइडेन का स्वास्थ्य बेहाल, विश्व की तीन महाशक्तियों का ऐसा हाल ! ….कैसा संकेत है ये ?

वर्ष 2022 के मध्य में पूरी दुनिया जहाँ एक तरफ कोरोना महामारी से उबरने की लगातार कोशिश कर रही है तो वहीं दूसरी ओर यूक्रेन-रूस के बीच 81 दिनों से चल रहे खूनी जंग ने पूरे विश्व में आर्थिक, कूटनीतिक, सामाजिक, मानवीय अस्थिरता को जन्म दे दिया है। ऐसे में दुनिया को एक मजबूत सामूहिक […]

Continue Reading
रूस

रूस के पक्ष में लड़ने वाले चेचेन और सीरियाई लड़ाके

विनय कुमार यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने कहा है कि व्लादिमीर पुतिन इस युद्ध के बहाने उन्हें निशाना बनाना चाहते हैं. क्योंकि, रूसी सेना की मदद के लिए कम से कम 10,000 खूंखार चेचन लड़ाके यूक्रेन में घुस आए हैं। इस बात की पुष्टि खुद चेचन्या के प्रधानमंत्री रमजान कादिरोव ने की है। जिनके […]

Continue Reading
रूस बनाम यूक्रेन

रूस बनाम यूक्रेन में अमेरिका का युद्ध व तेल वाला खेल

देवेन्द्र सिकरवार रूस बनाम यूक्रेन : गाँधी जी ने एक बार भारतीय वर्णव्यवस्था के शब्दों में अमेरिका की आलोचना करते हुए कहा था कि अमेरिका का समाज एक व्यापारी व भौतिकतावादी समाज है। उसे सिर्फ और सिर्फ अपने मुनाफे से मतलब है। वर्तमान का यूक्रेन-रूस युद्ध की पटकथा भी अमेरिका ने अपने फायदे के लिए […]

Continue Reading
वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की

यूक्रेन के ‘अमिताभ बच्चन’ वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की अपने देश को ले डूबे !

प्रमोद शुक्ल सिनेमा जगत से लोकप्रिय हुए तमाम अभिनेता अपनी लोकप्रियता भुनाते हुए कई बार नेता बन जाते हैं। भारत में भी ऐसा अनेक बार हुआ है। दक्षिण भारत में तो एमजी रामचंद्रन से लेकर जयललिता सहित अनेक ऐसे नेता हुए हैं जो फिल्मी जगत से लोकप्रियता बटोर कर आए और जनता के ऊपर शासन […]

Continue Reading
रूस भारत

रूस के लिए भारत न मजबूरी, न जरूरी !

देवेन्द्र सिकरवार रूस के लिए भारत न मजबूरी है, न जरूरी।  इसलिये अभी भारत द्वारा रूस को समर्थन देने का कोई अर्थ नहीं। रूस के लिए चीन अधिक महत्वपूर्ण है जो पड़ोसी होने के कारण व्यापार व उसके लिए पूंजी भी उपलब्ध करवा सकता है। जबकि अमेरिका के लिए भारत जरूरी भी है और मजबूरी […]

Continue Reading
ब्लादिमीर पुतिन

रूस राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का मिशन “सोवियत संघ 2.0”

विनय कुमार वो 7 मई 2000 का दिन था जब रूस के राष्ट्रपति के रूप में पूर्व केजीबी एजेंट व्लादिमीर पुतिन ने रूस के राष्ट्रपति पद की शपथ ली थी। उन्होंने सत्ता सम्भालते ही रूस के लिये 200 वर्षों से समस्या बने चेचेन्या के चेचेन सरदारों के विद्रोह को कुचलने के लिये चेचेन्या में रूसी […]

Continue Reading
यूक्रेन बनाम रूस

यूक्रेन बनाम रूस मामले में भारत को क्या करना चाहिए ?

चन्दर मोहन अग्रवाल यूक्रेन बनाम रूस : कुछ दिन पूर्व मैंने दोस्तों से एक प्रश्न पूछा था कि बाइडेन ने यूक्रेन मामले में भारत से रूस के साथ मध्यस्थता करने के लिए मदद मांगी हैं। भारत को क्या करना चाहिए ? मेरे बहुत से ज्ञानी मित्रों ने अपने अपने मत लिखे थे। यधपि मत आपस […]

Continue Reading
भारत-चीन रार

भारत-चीन रार में मध्यस्थता के नाम पर पीठ पर वार करने वाला रूस

चन्दर मोहन अग्रवाल भारत-चीन रार : रूस पीठ पर वार करता है। 1965 का धोखा हम कैसे भूल सकते हैं। अब एक बार फिर शतरंज की बाजी मेज पर सज चुकी है। जिनपिंग आ रहे हैं भारत और इस मीटिंग की संरचना रूस ने की है। कहने को भारत और चीन के बीच शुरू हुए […]

Continue Reading

तालिबान के उदय के बाद भारत की ओर टिकी हैं……

संजय अग्रवाल  रूस के Security Czar, यूके के MI6 Chief और CIA के Chief भारत में थे, मुद्दा था अफगानिस्तान, तालिबान के उदय के बाद भारत की ओर टिकी हैं सभी की नज़रें…अमेरिका से लेकर रूस एवं ब्रिटेन तक के सुरक्षा अधिकारी लगातार भारत के दौरे कर रहे हैं… अफगानिस्तान में तालिबान के उदय के […]

Continue Reading