रूस

रूस के खिलाफ न होने से सख्ते में आए भारत विरोधी सुपर पॉवर देश

उमा शंकर सिंह रूस यूक्रेन युद्ध में रूस की निंदा न करने और रूस से कच्चा तेल व कोयला खरीदते रहने के कारण अमेरिका, ब्रिटेन और योरोपियन देश भारत से झुंझलाए हुए हैं। भारत पर दबाव बनाने के लिए अमेरिका और यूरोपियन यूनियन खास तौर से जर्मनी फिर उसी पुरानी तिकड़म की कूटनीति पर आ […]

Continue Reading
अमेरिका

अमेरिका के कारण यूरोप मरेगा भूखा !

चन्दर मोहन अग्रवाल या तो अमेरिका अपना थूका हुआ चाटेगा और या फिर पूरा का पूरा यूरोप भूखा मरेगा।अगले कुछ महीनों तक अगर रूस और यूक्रेन का युद्ध जारी रहता है तो यूरोप बहुत बड़ी मुसीबत में पड़ने वाला है। उसी मुसीबत से बचने के लिए यह सारे के सारे यूरोपियन देश भारत से बड़ी […]

Continue Reading
क्वाड सम्मलेन 2022

क्वाड सम्मलेन 2022 : आपके वोटों की शक्ति ……

राज शेखर तिवारी क्वाड सम्मलेन 2022 : क्वॉड देशों (अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान और भारत) की हाल ही में हुयी मीटिंग के बाद संयुक्त बयान में रूस की निंदा थी जिस पर भारत के विरोध के बाद हटाना पड़ा । अमेरिकी प्रेस कांफ्रेंस में जब अमेरिकी संवाददाताओं ने बार बार ज़ोर देकर पूछा कि ऐसा क्या […]

Continue Reading
यूक्रेन-रूस युद्ध

यूक्रेन-रूस युद्ध : अमेरिकी वित्त पोषित पश्चिमी मीडिया का कमाल तो देखिए

जीबन आनंद मिश्र यूक्रेन-रूस युद्ध : कल रसिया के सेंट्रल मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट के हेड कमांडर कर्नल जनरल अलेक्जेंडर लापिन ने, एक विशेष कार्यक्रम के दौरान अपने सैनिकों को सम्मानित किया ! सम्मानित होने वालों में मध्य कमान के 41वीं सेना के मेजर जनरल विटाली गेरासिमोव भी थे, जिन्हें यूक्रेन की ओर से पश्चिमी मीडिया ने […]

Continue Reading
बाइडेन

जिनपिंग, पुतिन, बाइडेन का स्वास्थ्य बेहाल, विश्व की तीन महाशक्तियों का ऐसा हाल ! ….कैसा संकेत है ये ?

वर्ष 2022 के मध्य में पूरी दुनिया जहाँ एक तरफ कोरोना महामारी से उबरने की लगातार कोशिश कर रही है तो वहीं दूसरी ओर यूक्रेन-रूस के बीच 81 दिनों से चल रहे खूनी जंग ने पूरे विश्व में आर्थिक, कूटनीतिक, सामाजिक, मानवीय अस्थिरता को जन्म दे दिया है। ऐसे में दुनिया को एक मजबूत सामूहिक […]

Continue Reading
रूस बनाम यूक्रेन

रूस बनाम यूक्रेन में अमेरिका का युद्ध व तेल वाला खेल

देवेन्द्र सिकरवार रूस बनाम यूक्रेन : गाँधी जी ने एक बार भारतीय वर्णव्यवस्था के शब्दों में अमेरिका की आलोचना करते हुए कहा था कि अमेरिका का समाज एक व्यापारी व भौतिकतावादी समाज है। उसे सिर्फ और सिर्फ अपने मुनाफे से मतलब है। वर्तमान का यूक्रेन-रूस युद्ध की पटकथा भी अमेरिका ने अपने फायदे के लिए […]

Continue Reading
अमेरिका हिंदुत्व

भारत में हिंदुत्व के खिलाफ काम करती अमेरिका के कथित बुद्धिजीवियों की फौज

रविशंकर सिंह शीतयुद्ध के समय से अमेरिका ने कथित बुद्धिजीवियों की फ़ौज खड़ी की है। जो मीडिया, यूनिवर्सिटी, फ़िल्म आदि में भरे पड़े हैं। अन्य देशों में उन्हें पुरस्कार देकर, NGO और महत्वाकांक्षी नेताओं के माध्यम से अपना नैरेटिव बनाने के लिये इस्तेमाल किया। इसके लिये अकूत धन का प्रयोग होता है। पिछले कई वर्षों […]

Continue Reading

‘कमजोर’ यूक्रेन जिसने अमेरिका का मुंह ताकने की गलती की

रणजीत सिंह रावत यूक्रेन कमजोर था अंत तक अमेरिका का मुंह देखता रहा ! होंग कॉन्ग ने समृद्धि बहुत कमाई पर रक्षा तंत्र पर काम नही किया उस पर चीन ने कब्जा कर लिया। नेपाल कमजोर है चीन ने जबरन उसके गांवों पर कब्जा किया हुआ है। नेहरू जी कमजोर प्रधानमंत्री थे तिब्बत और अक्साई […]

Continue Reading
काम करने का अधिकार

भारत में 18 वर्ष के नीचे वाले युवकों को काम करने का अधिकार मिले

चन्दर मोहन अग्रवाल काम करने का अधिकार  : अभी अभी रेड लाइट पर एक बच्चे को गाड़ी का शीशा खड़खडा कर भीख मांगते हुए देखा। आज आफिस जाने की जल्दी भी न थी और रेड लाइट भी लम्बी चलने वाली थी तो शीशा नीचे करके पूछ लिया कि बच्चे भीख क्यों मांग रहे हो। वह […]

Continue Reading
आज का भारत

आज का भारत दे रहा चीन-अमेरिका जैसी महाशक्तियों को चुनौती

चन्दर मोहन अग्रवाल आज का भारत! बिना मुखर हुए भारत ने संसार की दो महाशक्तियों की बादशाहत को ऐसी चुनोती दी है कि दोनों अंदर खाने चित हो कर अपने को असहाय महसूस कर रहे हैं। हालांकि अभी भी इन दोनों देशों की इतनी अकड़ बाकी है कि अंदर से धीरे धीरे टूटने के बावजूद […]

Continue Reading