रूस

रूस के खिलाफ न होने से सख्ते में आए भारत विरोधी सुपर पॉवर देश

उमा शंकर सिंह रूस यूक्रेन युद्ध में रूस की निंदा न करने और रूस से कच्चा तेल व कोयला खरीदते रहने के कारण अमेरिका, ब्रिटेन और योरोपियन देश भारत से झुंझलाए हुए हैं। भारत पर दबाव बनाने के लिए अमेरिका और यूरोपियन यूनियन खास तौर से जर्मनी फिर उसी पुरानी तिकड़म की कूटनीति पर आ […]

Continue Reading
अमेरिका

अमेरिका के कारण यूरोप मरेगा भूखा !

चन्दर मोहन अग्रवाल या तो अमेरिका अपना थूका हुआ चाटेगा और या फिर पूरा का पूरा यूरोप भूखा मरेगा।अगले कुछ महीनों तक अगर रूस और यूक्रेन का युद्ध जारी रहता है तो यूरोप बहुत बड़ी मुसीबत में पड़ने वाला है। उसी मुसीबत से बचने के लिए यह सारे के सारे यूरोपियन देश भारत से बड़ी […]

Continue Reading
आईएमएफ

गेहूं निर्यात रोक पर आईएमएफ मुखिया की धमकी असर करेगी ?

चन्दर मोहन अग्रवाल  आईएमएफ चीफ क्रिस्टालीना जॉर्जिया जो कल तक भारत से गेहूं के निर्यात को रोके ना जाने के लिए भीख मांग रही थी, उसने आज भारत को धमकाने के लहजे में बात करनी शुरू कर दी है। इन गोरी चमड़ी वालों में यही एक खासियत है कि अगर इनकी बात नहीं मानी जाती है […]

Continue Reading
क्वाड सम्मलेन 2022

क्वाड सम्मलेन 2022 : आपके वोटों की शक्ति ……

राज शेखर तिवारी क्वाड सम्मलेन 2022 : क्वॉड देशों (अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान और भारत) की हाल ही में हुयी मीटिंग के बाद संयुक्त बयान में रूस की निंदा थी जिस पर भारत के विरोध के बाद हटाना पड़ा । अमेरिकी प्रेस कांफ्रेंस में जब अमेरिकी संवाददाताओं ने बार बार ज़ोर देकर पूछा कि ऐसा क्या […]

Continue Reading
यूक्रेन-रूस युद्ध

यूक्रेन-रूस युद्ध : अमेरिकी वित्त पोषित पश्चिमी मीडिया का कमाल तो देखिए

जीबन आनंद मिश्र यूक्रेन-रूस युद्ध : कल रसिया के सेंट्रल मिलिट्री डिस्ट्रिक्ट के हेड कमांडर कर्नल जनरल अलेक्जेंडर लापिन ने, एक विशेष कार्यक्रम के दौरान अपने सैनिकों को सम्मानित किया ! सम्मानित होने वालों में मध्य कमान के 41वीं सेना के मेजर जनरल विटाली गेरासिमोव भी थे, जिन्हें यूक्रेन की ओर से पश्चिमी मीडिया ने […]

Continue Reading
खाद्यान्न संकट

खाद्यान्न संकट पर होती हवा हवाई बकवास

कुमार एस खाद्यान्न संकट : अब पता चला कि भारत में खाद्यान्न की उपलब्धता, भुखमरी और कुपोषण पर आंकड़े जारी करने वाली संस्थाओं और देशों के स्वयं के पास न गेहूँ है और न ही शक्कर। न उनके देशों में उगता है न ही वे उत्पादन करते हैं, और हर छह माह में बड़ी बड़ी […]

Continue Reading
बाइडेन

जिनपिंग, पुतिन, बाइडेन का स्वास्थ्य बेहाल, विश्व की तीन महाशक्तियों का ऐसा हाल ! ….कैसा संकेत है ये ?

वर्ष 2022 के मध्य में पूरी दुनिया जहाँ एक तरफ कोरोना महामारी से उबरने की लगातार कोशिश कर रही है तो वहीं दूसरी ओर यूक्रेन-रूस के बीच 81 दिनों से चल रहे खूनी जंग ने पूरे विश्व में आर्थिक, कूटनीतिक, सामाजिक, मानवीय अस्थिरता को जन्म दे दिया है। ऐसे में दुनिया को एक मजबूत सामूहिक […]

Continue Reading
नेपाल

मुसीबत में फँसे नेपाल को याद आई पुराने दोस्त भारत की

उमा शंकर सिंह  नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा ने भारत की ओर हाथ बढ़ाया है। बतौर प्रधानमंत्री पांचवी बार नेपाल जा रहे मोदी ने कई बार पड़ोसी देश से रिश्ते मजबूत करने के लिए कदम बढ़ाये लेकिन किसी ना किसी कारण बात बिगड़ती रही। गौतम बुद्ध की जन्मस्थली से एक बार फिर रिश्तों को […]

Continue Reading
मानव जाति संस्थाएं

मानव जाति पर बोझ कुछ संस्थाएं अब समाप्त कर देनी चाहिए

कौशल सिखौला कुछ संस्थाएं ऐसी हैं जिन्हें अब समाप्त कर देना चाहिए ! मानव जाति के सरंक्षण और जीवन बनाए रखने की प्रतिबद्धता से इन बड़े बड़े संस्थानों का कोई मतलब नहीं रहा ! ये सभी सफेद हाथी साबित हुए हैं, जिन्होंने मनुष्यता का कभी कोई भला नहीं किया ! बहुत सी संस्थाओं के गठन […]

Continue Reading
रूबल रूस

रूस के साथ रूबल रूपी ट्रेड भारत के लिए श्रेयस्कर

राज शेखर तिवारी जो कल समझौता हुआ है vitol के साथ भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। भारत, विश्व का तीसरा सबसे बड़ा तेल का उपभोक्ता है। भारत की बढ़ती जनसंख्या के कारण भारत के ऊर्जा की आवश्यकता लगातार बढ़ रही है। भारत अपने उपयोग का 85% तेल आयात करता है । जिसमें अभी तक […]

Continue Reading