पीएम मोदी अयोध्या भूमि पूजन

पीएम मोदी का अयोध्या भूमि पूजन कार्यक्रम वर्णी….इस तरह रखेंगे राम मंदिर की शुभ नींव

ट्रेंडिंग धर्म
Spread the love

अयोध्या भूमि पूजन : राम नगरी अयोध्या में भूमि पूजन की शूभ घड़ी बस 5 अगस्त को आने ही वाली है। जिसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित किया गया है। दिनांक 5 अगस्त 2020 को नरेंद्र मोदी सुबह 11 बजे आयोध्या पहुँचगे और राम भूमि पूजन का हिस्सा बनेंगे। भूमि-पूजन में हिस्सा लेने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भगवान श्रीराम का दर्शन करेंगे और अयोध्या के हनुमानगढ़ी में हनुमान जी की पूजा करेंगे। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपालदास के उत्तराधिकारी महंत कमलनयन दास ने 5 अगस्त के दिन की वह शुभ घड़ी भी बताया है, जब राम मंदिर के लिए पीएम मोदी भूमि पूजन करेंगे और आधारशिला रखेंगे।

कमलनयन दास ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के लिए भूमि पूजन के मुहूर्त का 32 सेकेंड बेहद खास होगा। पांच अगस्त को दोपहर 12 बजकर 15 मिनट 15 सेकंड के बाद ठीक 32 सेकंड के भीतर पहली ईंट रखनी अनिवार्य होगी। बता दें कि लगभग 40 किलो के चांदी की ईंट से राम मंदिर की आधारशिला रखी जाएगी।जिसके बाद मंदिर का निर्माण कार्य शुरू होगा। मंदिर के डिजाइन को लेकर फैसला हो चुका है , और 2 साल में मंदिर बनकर तैयार होने की बात बताई जा रही हैं। भूमिपूजन को लेकर श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने तैयारियां शुरू कर दी हैं।

बताया जा रहा है कि 11 पंडितों की टीम भव्य राम मंदिर का भूमिपूजन करवाएगी। राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए पीएम मोदी के साथ-साथ कई और दिग्गज हस्तियों को निमंत्रण भेजा गया है। जिसमें यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ भी रहेंगे साथ ही कई और केंद्रीय मंत्रियों के भी इस कार्यक्रम में शामिल होने की उम्मीद है । बताया जा रहा है कि विपक्ष के उन नेताओं को भी कार्यक्रम में बुलाया जाएगा, जो कभी राम मंदिर निर्माण के खिलाफ न रहे हों महंत नृत्य गोपाल दास के मुताबिक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत, गृहमंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह सहित करीब 200 प्रमुख हस्तियां अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होंगे।

PETA इंडिया का हिन्दू-विरोधी कृत्यों का पूरा काला रिकॉर्ड

कोरोना वायरस को ध्यान में रखकर सोशल डिस्टेन्सिंग और सैनिटाइजेशन के नियमों का खासा खास पालन भी होगा। राम मंदिर तीन मंजिला का होगा और इसकी ऊँचाई 161 फ़ीट होगी। मंदिर में कुल 5 शिखर होंगे। इसमें कुल 318 स्तम्भ (खम्भे) होंगे। 69 एकड़ भूमि पर 5 शिखर वाला मंदिर दुनिया में और कहीं भी देखने को नहीं मिलता है। राम मंदिर के नए डिजाइन में एक मंडप भी होगा, जिसमें 50,000 श्रद्धालु बैठ सकेंगे। मंदिर ज़मीन से 17 फ़ीट की ऊँचाई पर स्थित होगा। राम दरबार दूसरी मंजिल पर स्थित होगा। पीएम मोदी करीब 3 घंटा रामनगरी अयोध्या में रहेंगे।और इस दौरान वो किसी जनसभा को सम्बोधित नहीं करेंगे।

कोरोना महामारी के चलते देश के हालात को देखते हुए सीमित लोगों के बीच ही यह कार्यक्रम सम्पन्न करवाया जाएगा। इस बीच ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय भी सीएम येागी आदित्यनाथ से भूमि पूजन कार्यक्रम की तैयारी व अयोध्या की राम मंदिर से जुड़ी विकास योजनाओं के बारे में वार्ता करके लौट आए हैं। भूमि-पूजन से 2 दिन पहले ही पंडितों द्वारा विघ्नहर्ता गणेश का आह्वान किया जाएगा। काशी के प्रख्यात ज्योतिषाचार्य गणेश्वर शास्त्री द्रविड़ ने भूमिपूजन के मुहूर्त के साथ पूरी कुंडली बनाई है। और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास स्वयं भूमिपूजन अनुष्ठान की तैयारी देख रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *